Champai Soren New CM: कितने पढ़े-लिखे हैं Jharkhand के नए सीएम, जानकार चौंक जाएंगे

Champai Soren New CM: कितने पढ़े-लिखे हैं Jharkhand के नए सीएम, जानकार चौंक जाएंगे

Champai Soren New CM: कितने पढ़े-लिखे हैं Jharkhand के नए सीएम, जानकार चौंक जाएंगे ।

Jharkhand CM 2024

चंपई सुरेन ने झारखंड के मुख्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ले ली है हेमंत सुरेन के इस्तीफे के बाद चंपई मुख्यमंत्री बन चुके हैं चंपई हेमंत सुरेन के करीबी बताए जाते हैं हेमंत सरकार में चंपई कैबिनेट मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे थे सरकार में झामुमो के अलावा कांग्रेस भी सहयोगी थी तो आइए जानते हैं चंपई सुरेन के बारे में कुछ खास बातें ।

चंपई सोरेन के अलावा कांग्रेस पार्टी के आलमगीर आलम ने मंत्री के रूप में शपथ ली है आलमगीर आलम पाकुड़ सीट से कांग्रेस के विधायक हैं राजत के नेता सत्यानंद भोक्ता ने भी मंत्री के रूप में शपथ ली सत्यानंद त्रा सीट से राजत के विधायक हैं वे झारखंड सरकार में राज्य के कृषि मंत्री हैं तो वहीं पिछली सरकार में वह श्रम मंत्री थे चंपई सुरेंद झारखंड विधानसभा के सदस्य हैं

झारखण्ड के नए CM

वर्तमान में वह झारखंड मुक्ति मोर्चा पार्टी से सराय केला विधानसभा सीट से विधायक हैं कैबिनेट मंत्री के रूप में वो हेमंत सुरेंद्र सरकार में परिवहन अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग की जिम्मेदारी संभाल रहे थे

झारखण्ड के चीफ मनिस्ट कोनसी कक्षा तक पढ़े है

बता दें कि चंपई ने 1974 में जमशेदपुर स्थित रामकृष्ण मिशन हाई स्कूल से दसवीं तक की पढ़ाई की है जब बिहार से अलग झारखंड राज्य की मांग उठ रही थी उस दौरान चंपई का नाम खूब चर्चा में आया था शिबू सुरेन के साथ ही चंपई ने भी झारखंड के आंदोलन में भाग लिया था उसके बाद ही लोग उन्हें झारखंड टाइगर के नाम से भी बुलाने लगे केसी माटी के इस्तीफा के बाद चंपई ने बतौर निर्दलीय चुनाव जीता था वहीं 2005 में चंपई झारखंड विधानसभा के लिए चुने गए थे

चंपई सुरेन 2009-2019

इसके बाद 2009 में वो विधायक बने उन्होंने अर्जुन मुंडा वाली सरकार में सितंबर 2010 से जनवरी 2013 तक विज्ञान और प्रौद्योगिकी श्रम और आवास मंत्री की जिम्मेदारी संभाली वहीं जुलाई 2013 से दिसंबर 2014 तक खाद्य एवं नागरिक आपू परिवहन कैबिनेट मंत्री थे 2014 में फिर झारखंड विधानसभा के लिए चुने गए वहीं 2019 में विधायक बने इसके साथ ही वह हेमंत सरकार में परिवहन अनुसूचित जनजाति अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री बन गए आपको बताते चलें कि 2019 में चंपई ने अपनी संपत्ति ढाई करोड़ रुपए बताई थी अवैध जमीन घोटाले में फंसे हेमंत सुरेन ने बुधवार को झारखंड के मुख्यमंत्री के पद से अपना इस्तीफा दे दिया था

चंपई सुरेन कांग्रेस गठबंधन

इसके दौरान झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस गठबंधन ने सोरेन सरकार में परिवहन मंत्री चंपई सोरेन को विधायक दल का नेता चुन लिया इससे पहले सोरेन परिवार के बाहर जिन नामों पर चर्चा चल रही थी उनमें हेमंत सरकार के मंत्री का नाम सबसे आगे रहा आपको बता दें कि वह हेमंत सुरेन के सबसे खास लोगों में से शामिल माने जाते हैं चंपई ने शुभृ सुरेन के साथ लंबे समय तक काम किया था और अब वह झारखंड के नए मुख्यमंत्री बन चुके हैं 

 

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top